होम टैग्स मराठी कविता. स्त्री विमर्श

टैग: मराठी कविता. स्त्री विमर्श

कविता महाजन की कविताएँ :: मराठी से अनुवाद : सुनीता डागा मेरी ही तरह मालिक, कुछ दिनों तक आपको सब्र करना होगा पिंजड़े में क़ैद बाघिन शुरू-शरू में बेशक गुरगुराएगी धीरे-धीरे उसके नाख़ून और दाँतों की धार को भोथरा कर ही देंगे आप फिर तो भूख लगने पर घास भी खा...