सदानीरा : अंक 29 | वर्ष 9

क्रम ::
ग्रीष्म 2023
बहुभाषिकता

प्रवेश
जे सुशील

आलेख

रामचंद्र गुहा
अनुवाद : रीनू तलवाड़
भाष्वती घोष
अनुवाद : जे सुशील
रमाशंकर सिंह
दलपत सिंह राजपुरोहित
सागर
ख़ुर्शीद इमाम
दिनेश श्रीनेत
अखिल रंजन
माज़ बिन बिलाल

कविताएँ

अवधी कविता
अमरेंद्र अवधिया

भोजपुरी कविता
प्रमोद कुमार तिवारी
सागर

खासी कविता
किनफम सिंग नोंगकिनरिह
अनुवाद : प्रमोद कुमार तिवारी

कुड़ुख कविता
पार्वती तिर्की

तमिल कविता
सलमा
अनुवाद : जे सुशील

गुजराती कविता
मेहुल देवकला

अँग्रेज़ी कविता
रूमी नक़वी
अनुवाद : जे सुशील
भाष्वती घोष
अनुवाद : जे सुशील
माज़ बिन बिलाल
अनुवाद : जे सुशील

बातें

गिरिराज किराडू
से
जे सुशील

उद्धरण
लुडविग विट्गेन्स्टाइन
अनुवाद : अशोक वोहरा

आभार

प्राप्ति

‘सदानीरा’ का यह विशेषांक प्रिंट फ़ॉर्म में amazon और flipkart पर तथा डिजिटल फ़ॉर्म में NotNul पर उपलब्ध है।

प्रतिक्रिया दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *