होर्हे लुई बोर्हेस की कविताएँ ::
अनुवाद और प्रस्तुति : अंचित

यहाँ प्रस्तुत कविताएँ होर्हे लुई बोर्हेस के रात और अँधेरे से संबंधित कविता-संग्रह, ‘पोयम्स ऑफ़ द नाइट’ से ली गई हैं। इस संग्रह में बोर्हेस की वे कविताएँ हैं जिनमें वह रात, अंधकार, स्वप्न, दृष्टि, नेत्रहीनता इत्यादि के प्रति ध्यानमग्न हैं। बीसवीं सदी के महानतम रचनाकारों में से एक बोर्हेस यह मानते थे कि कविता की कोई परिभाषा उसका सरलीकरण कर देती है। जैसे पीले रंग को या पतझड़ को पूरा परिभाषित नहीं किया जा सकता, कविता को भी नहीं किया जा सकता। उनकी कविताएँ बार-बार नैतिकता, हिंसा, आस्था जैसे प्रश्नों से जूझती हैं और बोर्हेस को हमेशा प्रासंगिक बनाए रखती हैं।

अंचित

होर्हे लुई बोर्हेस

निर्माण-प्रक्रिया

उस अंधे आदमी की तरह जिसके हाथ ही
सबसे पहले दीवारों को दूर धकेलते और स्वर्ग के चित्र दिखाते हैं
धीरे-धीरे और अस्थिर—
वैसे ही, रात शुरू होने के समय,
मैं महसूस करता हूँ, वे कविताएँ जो आएँगी मेरे पास।

मुझे इस घिनौने अँधेरे को उन कविताओं के पारदर्शी अलाव में जलाना होगा :
शब्दों का नीला दिखता रंग, समय के पिटे हुए कंधों पर।
कविता के कठोर हीरे में मुझे शाम के आँसू भरने होंगे।
कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता कि मेरी आत्मा नग्न और अकेली हवा की तरह घूमती है
अगर एक आदर्श चुम्बन अभी भी मेरे जीवन का आलिंगन कर रहा है।
रात एक अच्छी उर्वर ज़मीन है—कविताओं को बोने के लिए।

क्रिस्टोफ़र मौर के अँग्रेज़ी अनुवाद पर आधृत

सेंट जॉन की पूर्वसंध्या

डूबता हुआ सूरज, अपनी अटल शान में
अपनी किरणों से दूरियों को बाँटता है,
और यहाँ है रात, धुनकी के पेड़ की तरह कोमल,
अशिष्ट अलावों के भँवर और उनका लाल कोलाहल :
हविष्य की तरह डाली गईं लकड़ियाँ और
उनसे उठतीं लाल लपटें :
जैसे जीवित ध्वज या अंधी शरारतें।
अँधेरा इस जगह से परे किसी जगह की तरह नम्र है।
आज इन सड़कों को याद है कि
ये कभी खेत हुआ करती थीं।
और इस पवित्र रात में
अकेलापन सुना रहा है अपनी सुमरिनी
दूर टँगे सितारों को।

क्रिस्टोफ़र मौर के अँग्रेज़ी अनुवाद पर आधृत

सीमाएँ

वेरलेन की एक पंक्ति है जो मुझे फिर याद नहीं रहेगी
पास ही एक सड़क है जो मेरे क़दमों से दूर है
एक आईना है जिसने मुझे आख़िरी बार देख लिया है
एक दरवाज़ा है जो मैंने दुनिया के आख़िर तक के लिए बंद कर दिया है,
मेरी लाइब्रेरी में जो किताबें हैं (मैं अभी उन्हें देख रहा हूँ)
उनमें से कुछ मैं कभी नहीं खोलूँगा।
इन सर्दियों में मेरी उम्र पचास वर्ष हो जाएगी।
मृत्यु मेरा इस्तेमाल कर रही है, लगातार, बिना थके।

केनेथ क्रबेनहॉफ़्ट के अँग्रेज़ी अनुवाद पर आधृत

आत्महत्या

रात में एक अकेला सितारा भी नहीं बचेगा
रात भी नहीं बचेगी
मैं मर जाऊँगा और मेरे साथ
इस असहनीय ब्रह्मांड का बोझ भी मर जाएगा।
मैं सब मिटा दूँगा—पिरामिड, मेडल, महाद्वीप, चेहरे।
जमा हो चुकी स्मृतियाँ भी मिटा दूँगा
इतिहास को कर दूँगा धूल, धूल की धूल।
अभी मैं आख़िरी सूर्यास्त देख रहा हूँ
सुन रहा हूँ आख़िरी चिड़िया का चहचहाना
कोई नहीं जिसको कुछ देकर जा रहा हूँ अपनी वसीयत में।

एलेस्टेयर रीड के अँग्रेज़ी अनुवाद पर आधृत

चिह्न
सुजाना बॉम्बल के लिए

1915 में जिनेवा में मैंने एक म्यूजियम की छत पर एक चीनी घंटी देखी थी जिस पर चीनी अक्षर गढ़े थे। 1976 में मैंने ये पंक्तियाँ लिखीं :

अनचीन्हा और अकेला, मुझे पता है
इस अस्पष्ट रात में, मैं ताँबे की एक प्रार्थना हो सकता हूँ
या एक सूक्ति जिसमें छिपा हो जीवन का कोई ज़ायक़ा
या एक शाम या चांग ज़ू का एक सपना जो तुम पहले से जानती हो,
या कोई ग़ैरज़रूरी तारीख़, या एक नीतिकथा, या कोई महान् सम्राट
जो अब चंद अक्षर भर ही बचा है, या पूरा ब्रह्मांड या तुम्हारा गुप्त नाम,
या वह पहेली तुमने बेकार ही जिसका रहस्य खोजने की कोशिश की।
तुम्हारे जीवन के दिनों में जो समय बीतता है रोज़, उनमें
मैं कुछ भी हो सकता हूँ। मुझे अँधेरे में रहने दो।

स्टीफ़न केस्लर के अँग्रेज़ी अनुवाद पर आधृत

कविता

अभिमुख
तुम सो रही थी। मैं तुम्हें जगाता हूँ।
यह विराट सुबह शुरुआत का भ्रम लिए आती है।
तुम वर्जिल को भूल गई हो। ये रहे उसके हेक्सामीटर।
मैं तुम्हारे लिए कई चीज़ें लाया हूँ।
चार यूनानी पदार्थ—धरती, पानी, आग, हवा।
एक स्त्री का इकलौता नाम।
चाँद की दोस्ती।
एटलस के चमकीले रंग।
भूलना, जो सब पवित्र करता है।
स्मृति, जो चुनती है और फिर से सब खोजती है।
वे आदतें जिनसे हमें यह महसूस होता है कि हम अमर हैं।
वह वृत्त और उसकी सुइयाँ जिनसे हम रहस्यमय समय को मापते हैं।
चंदन की सुगंध।
वे सभी संशय, जिन्हें हम थोड़े घमंड के साथ, तत्त्वमीमांसा कहते हैं।
पकड़कर चलने वाली छड़ी का वह घेरा जिसकी हाथ प्रत्याशा करता है।
अंगूरों का स्वाद और शहद का।

अँग्रेज़ी अनुवादक का नाम स्पष्ट नहीं

~•~

1 Comment

  1. पद्मसंभवा जुलाई 5, 2024 at 12:35 अपराह्न

    जल्दबाज़ अनुवाद हैं. एक बार मूल स्पैनिश पाठ भी देखा होता, भले भाषा न आती हो!
    महान पंक्तियों के तो जैसे पंख कुतर दिये हों
    Death reduces me incessantly.
    I bequeath nothingness to noone.
    I shall make dust of history, dust of dust.

    Reply

प्रतिक्रिया दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *